Saturday, August 13, 2022
Google search engine
HomeLifestyleबेटी को पढ़ाने के लिए पिता ने बेच दी थी जमीन ,...

बेटी को पढ़ाने के लिए पिता ने बेच दी थी जमीन , बेटी ने IAS बनके किया पिता का नाम रोशन

आज की महिलाएं पुरूष से किसी भी मायने में कम नहीं है, चाहे खेल कूद हो अथवा अंतरिक्ष विज्ञान, हमारे देश की महिलाएं आज किसी से पीछे नहीं हैं। आज हम इस पोस्ट में एक ऐसी ही महिला की बात करने जा रहे है, जिन्होंने संघर्ष करके अपने सपने को पूरा कर अपने गरीब पिता का मान बढ़ा रही हैं। हम बात कर रहे है, मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में जन्मीं उर्वशी सेंगर की, जो आज काफी चर्चा का विषय बनी हुई हैं। इनके चर्चा में आने की वजह है उनका सिविल सर्विस ज्वाइन करने वाला कहानी जो युवाओं को काफी प्रेरित कर रहा है, तो चलिए जानते है, इनके इस कहानी के बारे में।

आपको बता दें, इन्होंने अपने कैरियर में दो बार विफलता का सामना किया, जो उनके द्वारा साल 2019 और 2020 में दी गई थी। पर इन सब के बावजूद उन्होंने अपनी सिविल सर्विस की तैयारी जारी रखी और UPSC की परीक्षा पास कर 532वां रैंक हासिल कर ही लिया। यहीं नही, वे यूपीएससी की तैयारी के लिए ग्वालियर से दिल्ली भी आई थी, जहाँ उन्होंने प्रोफेशनल ट्रेनिंग भी ली थी, जो उनके लिए काफी सहायक था।

वहीं उनके पिता की बात करे तो, वे पेशे से एक इलेक्ट्रिशियन है, और इसी से वे चार बच्चों की परवरिश करते थे। वहीं एक बार ऐसा भी समय आया था, जब उर्वशी की कोचिंग क्लास के फीस भरने के पैसे नहीं थे, और उर्वशी दिल्ली जैसे बड़े शहर में रह रही थी। और इस कारण उन्हे अपनी जमा पूंजी से खरीदे हुए एक छोटे से प्लॉट को बेचना पड़ा, ताकि उन्हें कोई दिक्कत न आए। ऐसे में उनका कहना है कि, जब उर्वशी यूपीएससी की तैयारी करती थी, तो उन्हें अपने परिवार के सदस्यों का चेहरा याद आता था, यही नही उन्हे मुश्किलों से लड़ने की हिम्मत भी उन्हे अपने परिवार से ही मिलती थी।

रिपोर्ट के अनुसार, उर्वशी हमेशा से देश की सेवा में काम करना चाहती थी, इसकी शुरुआत तब हुई जब वे स्कूल के दिनों में कलेक्टर के आदेश से प्रभावित हुई थी। जिसके बाद उन्होंने अपनी एनसीसी टीचर से इस विषय में बातचीत की और सिविल सर्विस की तैयार करने का मन बना लिया।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments